रीवा में 24 जुलाई को दो, 25 जुलाई को चार लोगों ने तोड़ा दम, मऊगंज स्कूल के 2 छात्र तो बैकुंठपुर की 2 बच्चियां घायल

0

रीवा में 24 जुलाई को दो, 25 जुलाई को चार लोगों ने तोड़ा दम, मऊगंज स्कूल के 2 छात्र तो बैकुंठपुर की 2 बच्चियां घायल

 

रीवा जिले में दो दिन के भीतर अलग-अलग जगहों पर आकाशीय बिजली गिरने से 6 लोगों की मौत हो गई। जबकि मऊगंज कस्बा स्थित शासकीय हाई स्कूल के 2 छात्र और बैकुंठपुर क्षेत्र की 2 बच्चियां बिजली की चपेट में आ गई है। घायलों को अस्पताल में भर्ती कर उपचार दिया जा रहा है। वहीं संबंधित पुलिस ने मर्ग कायम कर 6 मृतकों की लाश संजय गांधी अस्पताल की मर्चुरी में रखवाया था। एसजीएमएच में पंचनामा कार्रवाई के बाद मर्ग कायम पीएम उपरांत शव परिजनों को सौप दिया है।

ऐसे हुई मौते

1- 24 जुलाई को शैलेन्द्र पटेल (18) निवासी पटेहरा थाना मऊगंज की मौत।

2- 24 जुलाई को सियादुलारी द्विवेदी (70) निवासी बधरी थाना सेमरिया की मौत।

3- 25 जुलाई को सुखबरीया कोल पति रमेश्वर (60) निवासी ऊंचा टोला तिलखन गांव थाना बैकुंठपुर की मौत।

4- 25 जुलाई को हरि प्रसाद तिवारी पुत्र रामनाथ (58) निवासी बगढा थाना बैकुंठपुर की मौत।

5- 25 जुलाई गोरेलाल ​कोल पुत्र रामनिवास (40) निवासी बांधी गांव थाना गुढ़ की मौत।

6- 25 जुलाई को सत्यवती विश्वकर्मा पत्नी राजमणि (42) निवासी दुआरी थाना गुढ़ की मौत।

मऊगंज स्कूल के दो छात्र घायल

मऊगंज थाना अंतर्गत शासकीय हाईस्कूल में सोमवार की दोपहर क्लास से बाहर दो छात्र पानी पीते समय आकाशीय बिजली की चपेट में आ गए। दावा है कि कक्षा 10वीं का छात्र शांतनु पाण्डेय निवासी ऊधौ पुर्वा और कक्षा 11वीं का छात्र मोहन सोंधिया निवासी वार्ड क्रमांक 6 मऊगंज घायल है। दोनों को सिविल अस्पताल मऊगंज में भर्ती कराया गया है। जहां शांतनु पाण्डेय की हालत गंभीर है।

बैकुण्ठपुर की दो बच्चियां आई चपेट में

बैकुंठपुर थाना प्रभारी निरीक्षक राजकुमार मिश्रा ने बताया कि सोमवार की दोपहर हर्दी खुर्द गांव में आकशीय बिजली गिरी थी। जहां दो ​बच्चियां बिजली की चपेट में आने से घायल हो गई। परिजनों द्वारा घायल बच्चियों को संजय गांधी अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

 

बचाव के उपाय

– अगर आप बादलों के गरजने के समय घर के अंदर हैं तो घर के अंदर ही रहें।

– बिजली पैदा करने वाली चीजों से दूरी बनाकर रखें, जैसे रेडिएटर, फोन, धातु के पाइप, स्टोव इत्यादि।

– पेड़ के नीचे या खुले मैदान में जाने से बचें।

– अगर आप खुले मैदान में हैं तो जल्दी से किसी बिल्डिंग में जाकर खड़े हो जाएं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.