Sahara India Refund : सहारा इंडिया पैसा को लेकर नया नियम लागू अब इन लोगों को नहीं मिलेगा सहारा इंडिया का पैसा!

0

 

 

 

सहारा इंडिया चिटफंड कंपनी में देशभर के अरबों लोग फंसे हुए हैं अगर आपका भी पैसा सहारा इंडिया में फंसा हुआ है और समय सीमा समाप्त होने के बाद भी आपको आपका पैसा नहीं मिल रहा है तो अमित शाह जी द्वारा प्रकाशित रिफंड पोर्टल के अनुसार ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन के बाद आपको ₹10000 दिए जाते हैं लेकिन कई निवेशक ऐसे भी हैं जिन्हें अभी तक उनका पैसा नहीं मिला है उनका नाम सूची में नहीं आया इसी बीच एक बड़ी खबर आ रही है हम आपको बता दें कि अब इन लोगों को सहारा इंडिया से अपना पैसा वापस नहीं मिलेगा।

Ladali Bahna Yojana: लाडली बहनों के लिए आज खुशी का दिन इन बहनों के खाते में आएगा 9वी किस्त का ₹1250

सहारा इंडिया रिफंड न्यूज़

जैसा कि आप सभी जानते हैं कि सहारा इंडिया के निवेशकों का पैसा पिछले 12 वर्षों से फंसा हुआ है। निवेशकों को भी लगातार यह चिंता सता रही है कि उन्हें उनका पैसा वापस मिलेगा या नहीं लगभग सारा पैसा सहारा इंडिया में जमा था।सहारा इंडिया परिवार के पास 25,000 करोड़ रुपये से ज्यादा जमा थे।

हर कोई लोगों के पैसों को लेकर चिंतित है क्योंकि सहारा इंडिया ने लंबे समय से लोगों के पैसे नहीं लौटाए हैं इस समय भारत में कई ऐसे लोग हैं जिन्होंने सहारा इंडिया में करोड़ों रुपये से ज्यादा का निवेश किया है और उन्हें अभी तक उनका पैसा नहीं मिला है।

सहारा इंडिया रिफंड स्थिति की जाँच करें 

लेकिन आप सभी को बता दें कि सहारा इंडिया के निवेशकों के लिए भी एक अच्छी खबर आ रही है आपको बता दें कि जल्द ही सहकारिता मंत्रालय की ओर से ₹20000 के लिए आवेदन किया जाएगा ऐसी खबरें सोशल मीडिया से आ रही हैं।

आपको बता दें कि सेबी को 53642 क्लोजर सर्टिफिकेट या पासबुक से संबंधित 19644 आवेदन प्राप्त हुए हैं यह 81.70 करोड़ रुपये का था. इसमें से सेबी ने 48326 बंद सर्टिफिकेट/पासबुक वाले 17526 निवेशकों को 138.07 करोड़ रुपये वापस कर दिए।

इसमें से 70.09 करोड़ रुपये मूलधन और 67.98 करोड़ रुपये ब्याज है जिन बच्चों ने आवेदन किया था उन्हें अस्वीकार कर दिया गया क्योंकि उनके शहर द्वारा उपलब्ध कराए गए दस्तावेज़ों का रिकॉर्ड नहीं मिल सका।

अब आप भी बना सकेंगे अपने सपनों का महल सस्ता हुआ सरिया सीमेंट दुकान जाने से पहले जान लें रेट!

Leave A Reply

Your email address will not be published.