7th Pay Commision: केंद्रीय कर्मचारियों की चमकी किस्मत इस दिन मिलेंगे ₹2 लाख से ज्यादा देखें पूरी अपडेट!

0

 

 

 

केंद्रीय कर्मचारियों और पेंशन भोगियों को अब परेशानी का सामना करना पड़ सकता है क्योंकि सरकार जल्द ही अपना खजाना खोलने जा रही है सरकार डीए का 18 महीने का बकाया जल्द ही खाते में जमा करने जा रही है जो एक बड़े तोहफे की तरह होगा इसके अलावा सरकार महंगाई भत्ता (डीए) भी बढ़ाने जा रही है जिसके बाद वेतन में भी बंपर बढ़ोतरी होगी जिसके बढ़ने की उम्मीद है। इससे बड़ी संख्या में कर्मचारियों और पेंशन भोगियों को फायदा होगा।

रीवा में यहां मिलता है मात्र ₹30 में पंजाबी स्टाइल ‘ पनीर पराठा’ स्वाद बेहद लाजवाब खाने वालों की लगती है लंबी लाइन

दोनों तोहफों से 1 करोड़ से ज्यादा परिवारों को फायदा होने वाला है, जो हर किसी का दिल जीतने के लिए काफी है सरकार ने आधिकारिक तौर पर यह फैसला नहीं लिया है लेकिन मीडिया रिपोर्ट्स का दावा है कि जल्द ही ऐसा किया जाएगा।

इतने प्रतिशत से बढ़ेगा DA

केंद्र सरकार DA में 4 फीसदी की बढ़ोतरी करने जा रही है जिसके बाद सैलरी में बंपर बढ़ोतरी होगी सरकार के फैसले के बाद DA 50 फीसदी हो जाएगा लेकिन वर्तमान में 46 प्रतिशत कर्मचारियों को लाभ मिल रहा है, जो एक बड़ा वरदान होगा सरकार ने आधिकारिक तौर पर यह फैसला नहीं लिया है लेकिन जल्द ही इसे मंजूरी मिल सकती है आपकी जानकारी के लिए बता दें कि केंद्र सरकार ने कोरोना वायरस महामारी के दौरान डीए का 18 महीने का बकाया रोक लिया है।

DA का बकाया जल्द आएगा

केंद्र सरकार का मानना है कि 18 महीने का बकाया यानी डीए का तीन आधा हिस्सा जल्द ही खातों में जमा कर दिया जाएगा, जो महंगाई का बूस्टर डोज साबित होगा सरकार जल्द ही इस संबंध में बड़ा फैसला ले सकती है. लोकसभा चुनाव से पहले कर्मचारियों और पेंशनभोगियों को आकर्षित करने के लिए सरकार यह बड़ा फैसला ले सकती है, जिससे एक करोड़ से ज्यादा कर्मचारियों और पेंशनभोगियों को फायदा होगा।

कुछ मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक 15 मार्च तक इस पर फैसला हो सकता है जो एक बड़ा तोहफा होगा उच्चस्तरीय कर्मचारियों के खाते में करीब 2 लाख 18 हजार रुपये जमा होने की उम्मीद है यह रकम महंगाई के खिलाफ पुल का काम करेगी।

Rewa News: रीवा एयरपोर्ट बनने के बाद विंध्य को मिलेगी 2 और नए एयरपोर्ट की सौगात जल्द बनेगा हवाईअड्डा!

Leave A Reply

Your email address will not be published.