7th Pay Commission: केंद्रीय कर्मचारियों के लिए बड़ी खुशखबरी! इस दिन मिलेगा 18 महीने का DA एरियर

0

 

 

 

अब केंद्रीय कर्मचारियों की मौज होने वाली है, क्योंकि अब उन्हें सरकार की ओर से एक नहीं बल्कि दो-दो तोहफे मिलने वाले हैं अब सरकार केंद्रीय कर्मचारियों और पेंशनभोगियों पर गाज गिराने जा रही है सरकार महंगाई भत्ते (डीए) में बढ़ोतरी के साथ फिटमेंट फैक्टर बढ़ाने पर विचार कर रही है इतना ही नहीं तीन छमाही डीए का रुका हुआ एरियर भी मिल जाएगा जो एक बड़े तोहफे की तरह होगा इससे निश्चित रूप से कर्मचारियों और पेंशनभोगियों को खुशी मिलेगी जो एक महान उपहार की तरह होगा।

रीवा एयरपोर्ट बनकर हुआ तैयार इस दिन से शुरू होगी विंध्य वासियों के लिए हवाई सेवा

सरकार ने आधिकारिक तौर पर यह फैसला नहीं लिया है, लेकिन मीडिया रिपोर्ट्स का दावा है कि जल्द ही ऐसा किया जाएगा। सरकार जल्द ही इसे मंजूरी देने का फैसला कर सकती है, जो एक बड़ा तोहफा होगा।

खाते में फंसा DA बकाया जल्द आएगा

मोदी सरकार का 18 महीने का डीए बकाया जल्द ही खाते में आने वाला है, जो एक बड़े तोहफे की तरह है इससे एक करोड़ से ज्यादा परिवारों को फायदा होगा जो बूस्टर डोज के तौर पर काम करेगा आप सोच रहे होंगे कि खाते में कितने पैसे आएंगे आपको यह जानकर खुशी होगी कि उच्च पदस्थ कर्मचारियों के खाते में 2 लाख रुपये से ज्यादा आएंगे।

सरकार ने कोरोना वायरस प्रकोप के दौरान 1 जनवरी, 2020 से 30 जून, 2021 तक डीए का बकाया नहीं भेजा। इसके बाद से केंद्रीय कर्मचारी और पेंशनभोगी लगातार डीए बकाए की मांग कर रहे हैं जिसे मंजूरी मिलना तय है। सरकार यह फैसला लोकसभा चुनाव से पहले ले सकती है.

महंगाई भत्ता भी बढ़ेगा

यह तय है कि केंद्र सरकार कर्मचारियों और पेंशनभोगियों के महंगाई भत्ते (डीए) में 4 फीसदी की बढ़ोतरी करेगी. इसके बाद यह बढ़कर 50 प्रतिशत हो जाएगा, जिससे मूल वेतन में रिकॉर्ड तोड़ बढ़ोतरी होगी लेकिन फिलहाल 46 फीसदी डीए का लाभ मिलता है

सरकार जल्द ही इस संबंध में कोई चौंकाने वाला फैसला ले सकती है जो एक बड़े तोहफे की तरह होगा. सरकार ने आधिकारिक तौर पर यह फैसला नहीं लिया है, लेकिन मीडिया रिपोर्ट्स में जल्द ही यह फैसला लेने की बात कही जा रही है।

10th 12th पास युवाओं के लिए भारतीय रेलवे में निकली है वैकेंसी बिना परीक्षा के होगा सलेक्शन जल्दी करें अप्लाई

Leave A Reply

Your email address will not be published.