MP में तीसरे चरण की 8 सीटों पर थमा प्रचार सिंधिया, शिवराज सिंह चौहान दिग्विजय सिंह समेत ये दिग्गज मैदान में!

0

 

 

MP Loksabha Election 2024: लोकसभा चुनाव के तीसरे चरण का मतदान 7 मई को होगा आज चुनावी शोर थम गया है चुनाव के तीसरे चरण में मध्य प्रदेश की आठ लोकसभा सीटों पर मतदान होगा मुरैना, भिंड, ग्वालियर, गुना, सागर, बिदिशा, भोपाल और राजगढ़ इनमें गुना, बिदिशा और राजगढ़ हॉट सीटें हैं जहां से क्रमश केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया।

CM Mohan Yadav: रथ पर सवार सीएम मोहन यादव ने घुमाया गदा नेता को लगी चोट फिर जो हुआ वीडियो हुआ वायरल!

पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह की चुनावी किस्मत का फैसला होगा मध्य प्रदेश में पहले चरण में 19 अप्रैल को छह सीटों पर मतदान हुआ और मतदान प्रतिशत 66.44 रहा 26 अप्रैल को दूसरे चरण में 6 सीटों पर 67 फीसदी वोट पड़े

दिग्विजय सिंह

मध्य प्रदेश की राजनीति में दिग्गी राजा के नाम से मशहूर दिग्विजय सिंह अब राजगढ़ से चुनाव लड़ रहे हैं 2019 में कांग्रेस ने उन्हें भोपाल से टिकट दिया लेकिन वह पहली बार चुनाव लड़ीं साध्वी प्रज्ञा टैगोर से हार गए।

अब वह 30 साल बाद राजगढ़ लौट रहे हैं उन्होंने इस सीट से तीन बार चुनाव लड़ा, जिसमें से दो बार उन्होंने जीत हासिल की हालांकि, सीएम बनने के बाद 1993 में उन्होंने राजगढ़ सीट छोड़ दी और उनके भाई लक्ष्मण सिंह

यहां से सांसद बने दिग्विजय सिंह का मुकाबला दो बार के बीजेपी सांसद रोडमल नागर से होगा अब तक इस सीट पर नौ बार कांग्रेस और छह बार बीजेपी ने जीत हासिल की है।

शिवराज सिंह चौहान

मध्य प्रदेश में ‘मां’ के नाम से मशहूर शिवराज सिंह चौहान छठी बार विदिशा से चुनाव लड़ रहे हैंbवह यहां से पांच बार सांसद रह चुके हैं 2023 विधानसभा चुनाव जीतने के बाद बीजेपी ने मोहन यादव को राज्य की कमान संभालने का मौका दिया और वह नए मुख्यमंत्री बने।

वहीं, कयास लगाए जा रहे थे कि शिवराज सिंह चौहान केंद्र में जाएंगे यह योजना के अनुसार ही हुआ बीजेपी ने उन्हें विदिशा से मैदान में उतारा है शिवराज सिंह चौहान ने यह भी कहा कि वे प्रदेश के लिए सौगात लेकर ऐसे ही केंद्र में नहीं जाएंगे 18 साल बाद शिवराज विदिशा लौट रहे हैं।

ज्‍योतिरादित्‍य सिंधिया

2019 में हुए विधानसभा चुनाव में ज्योतिरादित्य को सिंधिया परिवार की पारंपरिक सीट गुना से हार का सामना करना पड़ा था तब वे कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ रहे थे उन्हें बीजेपी के केपी यादव ने हराया था

अब ज्‍योतिरादित्‍य बीजेपी का हिस्‍सा हैं यहां ज्‍योतिरादित्‍य का मुकाबला कांग्रेस के यादवेंद्र से है जिनके पिता सिंधिया 2002 में देशराज सिंह के खिलाफ चुनाव जीते थे।

Old Pension Scheme: कर्मचारियों एवं पेंशनरों के लिए बड़ी खुशखबरी! सरकार ने पुरानी पेंशन योजना को लेकर दी अपडेट

Leave A Reply

Your email address will not be published.