नल – जल योजना निर्माण में लापरवाही करने वाले ठेकेदार होंगे ब्लैक लिस्टेड, आपके ग्राम में इस तारीख तक पहुंचेगा योजना का पानी 

0

Rewa News: मोहनसभागार में नल जल योजना के कार्यों की प्रगति तथा पेयजल व्यवस्था की समीक्षा में बैठक बुलाई गई इस बैठक में रीवा कलेक्टर प्रतिभा पाल ने जिन नल जल योजनाओं का कार्य 90% पूरा हो गया है उनका कार्य 15 मई तक पूरा करा कर ग्राम पंचायत को हैंडोवर कराए, बचे हुए नल जल योजनाओं का कार्य 31 में तक पूरा जरूर करने कार्यपालन यांत्रिक नल जल योजना के प्रगति की हर सप्ताह रिपोर्ट जारी करें।

साथ ही नल जल योजना के निर्माण कार्य में लापरवाही करने वाले के प्रति बड़ी कार्यवाही की जाएगी, जिन ठेकेदारों की प्रगति 15% से कम और समय अवधि भी लगभग पूरी हो रही है उन्हें ब्लैकलिस्टेड करें. सभी घर को नल जल योजना का कनेक्शन देने के लिए तैयार कार्य योजना में जिन-जिन गांवों और बस्तियों में कनेक्शन नहीं है उनके पूरक प्रस्ताव 15 में तक अनिवार्य रूप से शासन को भेजें

रीवा जिले में कम हुई बारिश, तेजी से घट रहा भूजल

रीवा कलेक्टर ने कहा कि जिले में इस साल औसत से कम बारिश हुई है. जिसके कारण भूजल अस्तर में गिरावट देखी गई पेयजल की पूर्ति के लिए जहां तक संभव हो सके वहां तक सतही जल का उपयोग करें। हैंड पंप में राइजर पाइप लगाने के लिए सभी विकासखंड में पर्याप्त मात्रा में राइजर पाइप उपलब्ध कराए इसके साथ ही वाहन और अन्य संसाधनों के साथ हैंडपंप सुधार के लिए टीम तैनात करें।

इसके अलावा जिले में पेयजल व्यवस्था के लिए बनाए गए कंट्रोल रूम में प्राप्त सूचनाओं पर एक्शन ले जनपद के मुख्य कार्यपालन अधिकारी प्रत्येक ग्राम पंचायत में पेयजल की व्यवस्था सुनिश्चित करें, साथ ही छोटी-मोटी समस्याओं के कारण जो नल जल योजना बंद है उन्हें सुधार कर तुरंत चालू करें नल जल योजना में कनेक्शन के बाद ग्राम पंचायत में निर्धारित राशि की वसूली करें। 70% से अधिक वसूली करने वाली ग्राम पंचायत को जिला खनिज मद से प्रोत्साहन राशि भी दी जाएगी

30 अप्रैल तक चलेगा जिले में अभियान

मोहन सभा घर बैठक में रीवा कलेक्टर ने कहा कि पूरे जिले में 30 अप्रैल तक अभियान चला कर अनुपयोगी और खुले बोरवेल बंद कराए गए हैं। राजस्व अधिकारी और जनपद के मुख्य कार्यपालन अधिकारी पूरे क्षेत्र में भ्रमण के दौरान इसका सत्यापन करें अगर अब भी कोई बोरवेल खुले पाए जाते हैं तो उसके मालिक के विरुद्ध एफआईआर दर्ज होगी साथ ही संबंध जनपद पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी के विरुद्ध कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाएगी। जिला पंचायत और जनपद पंचायत के मुख्य कार्यकर्ता अधिकारी सभी पूर्ण नल जल योजनाओं के मौके का सत्यापन कर प्रतिवेदन करें

बैठक में जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी डॉ. सौरव सोनावने ने कहा कि कार्यपालन यंत्री पीएचई सभी ठेकेदारों से नल-जल योजना के लिए बिजली कनेक्शन के प्रस्ताव आज ही प्राप्त कर लें। इसे विद्युत बोर्ड के अधीक्षण अभियंता के समक्ष प्रस्तुत कर शीघ्र कनेक्शन कराएं। यह सुनिश्चित करने के लिए मानक प्रक्रियाएँ और निर्देश जारी करें कि ग्रामीण क्षेत्रों में निर्माण कार्य के कारण नल जल योजना की पाइपलाइनें क्षतिग्रस्त न हों। जिन निर्माण कंपनियों की पाइपलाइनें क्षतिग्रस्त हैं, उन्हें ठीक कराया जाएगा। नल जल योजनाओं का काम भी ठेकेदारों को पाइप लाइन में सुधार करने के बाद ही ग्राम पंचायतों को सौंपा जाना चाहिए।

बैठक में कार्यपालन यंत्री पीएचई संजय पांडे ने बताया कि जिले में जल जीवन मिशन के तहत 427 नल-जल योजनाएं स्वीकृत की गई हैं। इनमें से 237 पूरे हो चुके हैं और 62 ग्राम पंचायतों को हस्तांतरित हो चुके हैं। जिले में वर्तमान में 209 नल जल योजनाएं संचालित हैं। जिले के प्रत्येक विकासखण्ड में खराब हैण्डपम्पों की मरम्मत की समुचित व्यवस्था की गई है। 60 प्रतिशत पूर्ण नल जल परियोजनाएं 31 मई तक शत-प्रतिशत पूर्ण कर ग्राम पंचायतों को सौंप दी जाएंगी। बैठक में सभी एसडीएम, जिला मुख्य कार्यपालन अधिकारी, जिला प्रबंधक जल जीवन मिशन चित्रांग्शु, अनुविभागीय अधिकारी और पीएचई के उपयंत्री तथा संबंधित ठेकेदार उपस्थित थे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.